कमजोर ग्लोबल संकेतों के चलते बाजार की 4 हफ्तों की तेजी पर लगा लगाम, डॉलर के मुकाबले रुपया भी हुआ कमजोर

बीते हफ्ते विदेशी संस्थागत निवेशकों ने भारतीय बाजारों में 12,643.61 करोड़ रुपये की बिकवाली की। वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 508.04 करोड़ रुपये की खरीदारी करें।

केंद्रीय बैंकों द्वाराब्याज दरों में बढ़ोतरी और एफआईआई की लगातार बिकवाली के बीच 21 जनवरी को समाप्त पिछले हफ्ते में बाजार में लगातार चौथे हफ्ते की तेजी पर ब्रेक लग गया। बीते हफ्ते सेंसेक्स 2,185.85 अंक यानी 3.57 फीसदी टूटकर 59,037.18 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 638.55 अंक यानी 3.49 फीसदी गिरकर 17,617.2 के स्तर पर बंद हुआ।

बीते हफ्ते बीएसई मिडकैप इंडेक्स सप्ताहिक आधार पर 4.3 फीसदी टूटा। इस गिरावट में nfo Edge India, Oracle Financial Services Software, Zee Entertainment Enterprises, Container Corporation of India, Max Financial Services, Voltas और Godrej Properties का सबसे ज्यादा योगदान रहा।

21 जनवरी को खत्म हुए हफ्ते में बीएसई स्मॉलकैप इंडेक्स ने हफ्ते के दौरान ही फ्रेश हाई छुआ लेकिन हफ्ते की समाप्ति लाल निशान में की। Sterlite Technologies, Tata Teleservices (Maharashtra), Urja Global, Hikal, Tejas Networks, Bhansali Engineering Polymers, The Anup Engineering, Dr Lal PathLabs, Jaypee Infratech और Zee Media Corporation जैसे शेयरों में 16-23 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। वहीं Precision Wires India, HSIL, Khaitan Chemicals and Fertilizers, Kellton Tech Solutions, OnMobile Global और Vikas Lifecare में 21-44 फीसदी की बढ़त देखने को मिली।

ICICI Bank Q3 Preview | मुनाफे और ब्याज आय में हो सकता है इजाफा, एसेट क्वालिटी के स्थिर रहने का अनुमान

लॉर्जकैप शेयरों पर नजर डालें तो पिछले हफ्ते बीएसई लॉर्जकैप शेयर में 3.3 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। लॉर्जकैप में HCL Technologies, Bajaj Finserv, Larsen & Toubro Infotech, Divis Laboratories और Ambuja Cement में सबसे ज्यादा गिरावट में देखने को मिली। वहीं Adani Green Energy, Hero MotoCorp, Power Grid Corporation of India और Adani Transmission मेजर गेनर रहें।

बीएसई सेंसेक्स पर नजर डालें तो मार्केट कैप के लिहाज से इंफोसिस में सबसे ज्यादा नुकसान देखने को मिला। उसके बाद टीसीएस, एचसीएल और रिलायंस इंडस्ट्रीज का नंबर रहा। वहीं Power Grid Corporation of India, Maruti Suzuki India और Mahindra and Mahindra के मार्केट कैप में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिली।

अलग-अलग सेक्टर पर नजर डालें तो बीएसई आईटी में 6.5 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। बीएसई टेलिकॉम में 5.8 फीसदी और निफ्टी फार्मा में 5.2 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। हालांकि इस दौरान पावर इंडेक्स 2.6 फीसदी भागा।

बीते हफ्ते विदेशी संस्थागत निवेशकों ने भारतीय बाजारों में 12,643.61 करोड़ रुपये की बिकवाली की। वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 508.04 करोड़ रुपये की खरीदारी करें। हालांकि इस महीने अब तक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने भारतीय बाजारों में 15,563.72 करोड़ रुपये की बिकवाली की है जबकि डीआईआई ने 7,430.35 करोड़ रुपये की खरीदारी की है।

गए हफ्ते डॉलर के मुकाबले रुपये में भी कमजोरी देखने को मिली। साप्ताहिक आधार पर नजर डालें तो रुपया 27 पैसे कमजोर होकर 74.42 पर बंद हुआ था जबकि 14 जनवरी को डॉलर के मुकाबले रुपया 74.15 के स्तर पर बंद हुआ था।